काव्य-शिल्प को एक नए अंदाज़ में जानिए
अपनी लेखनी को तराशिए
कि आपकी कविता पाठक की धड़कन बने
मृदु भावों के अंगूरों की
आज बना लाया हाला,
प्रियतम, अपने ही हाथों से
आज पिलाऊँगा प्याला,
पहले भोग लगा लूँ तेरा
फिर प्रसाद जग पाएगा,
सबसे पहले तेरा स्वागत
करती मेरी मधुशाला
~ बच्चन
कई मौलिक सुविधाएँ
  • मात्रा गणना
  • शब्द सम्पदा (समानार्थक शब्द)
  • ग़ज़ल विश्लेषण
  • उर्दू के लिए मात्रा परिवर्तन
  • मुक्त कविता में लय
उपयोगी सुविधा
  • पिछली कविताएँ पुन: खोलिए
गीत गतिरूप क्या है?
कविता के किस पंक्ति में कितनी मात्रा है - गीत गतिरूप यह बताता है| इससे छंद में ठीक कहाँ त्रुटियाँ है यह स्पष्ट होता है| यह जान कर कवि शब्दों को बदल कर त्रुटियाँ सुधार सकता है|

छंदबद्ध कविता के लिए यह अत्यन्त आवश्यक है कि छंद में त्रुटियाँ न हों| छंदमुक्त कविता में भी एक निहित छंद होनी चाहिए जिससे कि लय का आभास कायम रहे| कविता में लय उसी तरह से महत्वपूर्ण है जैसे संगीत में ताल|

गीत गतिरूप में मुक्त छंद सम्बंधित भी सुविधायें हैं|

कविता में लय के विषय में जानना, काव्य विधा की प्रारम्भिक जानकारी है|
आपके अनुभव
Ajay Rattan pic जादू की छड़ी
मेरी कविता "कौन हूँ में" को काफ़ी पसंद किया गया, मुख्यत: भाषा व शब्दचयन की वजह से। साहित्य कुंज में प्रकाशित हुई| मैं उसका श्रेय गीत गतिरूप के " शब्द सम्पदा" को देना चाहता हूँ।

मैं गीत गतिरूप मात्रा गिनने में बहुतायत में इस्तेमाल करता हूँ। ख़ासकर दोहा जैसे छंदों को लिखते समय, जिसमें मात्रा ज्ञान अति अव्याशक है, गीत गतिरूप एक जादू की छड़ी का काम करता है । इससे कवि को बहुत मदद मिलती है- मात्रा गणना में, शब्द संयोजन में एवं शब्दावली चुनने में।

~ अजेय रतन, कवि और टाटा ब्लूस्कोप सटील में जनरल मैनेजर
Arvind Vyas pic बहुत ही सहायक
हिंदी कवियों शायरों के लिए काफी सुविधा है, मात्रिक छंद लिखने में। मात्रा गणना और सही करना, बहुत आसान हो जाता है। बहुत ही सहायक है।

~ अरविन्द व्यास "प्यास", कवि, अबु धाबी, यू.ए.ई.
शुरुआत यहाँ से

प्रवेश

काव्य-शिल्प पर सरल प्रारम्भिक लेख
गीत गतिरूप का प्रयोग कैसे करें?
यह वीडियो श्रृंखला देखें


Acknowledgement | Terms & Conditions | Refund Policy | Privacy Policy | Contact Us