काव्य-शिल्प को एक नए अंदाज़ में जानिए
अपनी लेखनी को तराशिए
कविता में निहित लय को चित्र में देखिए
मृदु भावों के अंगूरों की
आज बना लाया हाला,
प्रियतम, अपने ही हाथों से
आज पिलाऊँगा प्याला,
पहले भोग लगा लूँ तेरा
फिर प्रसाद जग पाएगा,
सबसे पहले तेरा स्वागत
करती मेरी मधुशाला
~ बच्चन
कई मौलिक सुविधाएँ
  • मात्रा गणना
  • शब्द सम्पदा (समानार्थक शब्द)
  • ग़ज़ल विश्लेषण
  • उर्दू के लिए मात्रा परिवर्तन
  • मुक्त कविता में लय
उपयोगी सुविधा
  • पिछली कविताएँ पुन: खोलिए
गीत गतिरूप क्या है?
कविता के किस पंक्ति में कितनी मात्रा है - गीत गतिरूप यह बताता है| इससे छंद में ठीक कहाँ त्रुटियाँ है यह स्पष्ट होता है| यह जान कर कवि शब्दों को बदल कर त्रुटियाँ सुधार सकता है|

छंदबद्ध कविता के लिए यह अत्यन्त आवश्यक है कि छंद में त्रुटियाँ न हों| छंदमुक्त कविता में भी एक निहित छंद होनी चाहिए जिससे कि लय का आभास कायम रहे| कविता में लय उसी तरह से महत्वपूर्ण है जैसे संगीत में ताल|

गीत गतिरूप में मुक्त छंद सम्बंधित भी सुविधायें हैं|

कविता में लय के विषय में जानना, काव्य विधा की प्रारम्भिक जानकारी है|
शुरुआत यहाँ से

प्रवेश

काव्य-शिल्प पर सरल प्रारम्भिक लेख
गीत गतिरूप का प्रयोग कैसे करें?
यह वीडियो श्रृंखला देखें


Acknowledgement | Terms & Conditions | Refund Policy | Privacy Policy | Contact Us