नाप कर माप कर! (मापनी)

कई दिनों से (बल्कि सालों से) मन में यह बात थी कि गीत गतिरूप में यह सुविधा होनी चाहिए| छंद की मापनी देकर उसके अनुसार कविता का प्रतिरूप पाने की सुविधा। एक बार मैंने कोशिश भी की, पर कोड करना जटिल लगा। मैंने छोड़ दिया।

हाल में कवि और गीत गतिरूप के प्रयोगी ( यूज़र), धीरेन्द्र त्रिपाठी ने कुछ सुझाव दिए जिससे कि यह महत्वपूर्ण सुविधा कोड करना काफ़ी सरल हो गया, और अब यह आपके लिए तैयार है।

काव्यशास्त्र और संगीत में सक्रिय रुचि रखने वाले धीरेन्द्र त्रिपाठी “कालपाठी” के नाम से लिखते हैं। विभिन्न छंदों की उनकी कविताएँ, यहाँ, उनके वेबसाइट पर, छंद की जानकारी सहित संकलित है। साथ ही व्यवसाय से वह प्रौद्योगिकी के सलाहकार भी हैं, तो उनकी ओर से यह सुझाव आए, आश्चर्य नहीं। इसके लिए उन्हें बहुत धन्यवाद।

कालपाठी की ही कविता “एक लघु जीव से…” की दो पंक्तियों के माध्यम से मापनी की यह सुविधा को जानें —

कविता के टेक्स्ट के पहले, प्रथम पंकित में अब आप छंद की मापनी लिख सकते हैं,
जैसे कि मंदाक्रांता छंद की मापनी
2222 111112 2122122
और उसके बाद कविता की पंक्तियाँ, जैसे कि
तेरी मेरी विविध विधि है जीव संतोष की रे
दोनों तो हैं सुविकसित है दौड़ता कौन धीरे

(कालपाठी)


और प्रतिरूप देखें तो यह पाएँगे —


यदि पंक्तियाँ मापनी के अनुकूल नहीं हैं तो प्रतिरूप में दिख जाएगा, जैसे कि —
2222 111112 2122122
आने जाने में लगता है समय बहुत ही रे


इस उदाहरण में कुल मात्रा एक से कम पड़ रहा है (27 की जगह 26) वह तो दिख ही रहा है, साथ ही रंगों के कारण छंद से पृथक पहली त्रुटि कहाँ है, और आगे के बेमेल भी स्पष्ट हो रहे हैं।


मापनी आप हिन्दी के १ २ में भी दे सकते हैं —
२२२२ १११११२ २१२२१२२

मापनी यदि न भी दें तो अब दीर्घ मात्रा और दो लगातार लघु मात्रा हरे में दिखते हैं और अकेला लघु हो तो नीले में। इससे बिन मापनी के भी छंद का आकार ज्यादा स्पष्ट होता है। इसके कारण तुकान्त पंक्तियों के रंग देखना अब अतिरिक्त विकल्पों में डाल दिया गया है —


सॉफ़्टवेयर अभी यति (छंद में विराम कहाँ अनिवार्य है) नहीं दिखाता है। वह प्रबन्ध और उसकी घोषणा बाद में कभी।

इस सुविधा के विषय में कोई भी प्रश्न अथवा टिप्पणी हो तो नीचे अवश्य लिखें।

2 thoughts on “नाप कर माप कर! (मापनी)”

  1. वाणीजी,

    वेबसाइट में नयी उपलब्धि के लिए बधाई!

    और आपके लेख जिसमें मेरा, मेरी वेबसाइट का और मेरी कविताओं का उल्लेख है, उसके लिए धन्यवाद।

    मेरा सुझाव तो केवल एक छोटा सा संकेत था और सारा श्रेय आपकी कला समर्पित सोच और मेहनत को जाता है।

    मैं यहाँ आपको इस सराहनीय वेबसाइट के लिए भी बधाई देना चाहता हूँ जो पारम्परिक कलाओं को आधुनिक प्रौद्योगिकी से जोड़ कर, उन कलाओं को और प्रचलित होने में सहायता प्रदान कर रही है।

    सादर।

    – धीरेन्द्र त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *